सट्टेबाजी घोड़े दौड़ – कैसे भारत से घोड़े शर्त

भारत में घुडदौड शर्ते

1996 में भारतीय उच्चतम न्यायालय ने फैसला सुनाया कि घुडदौड पर शर्त लगाना हुनर का खेल है, न कि
सिर्फ किस्मत का | इसलिए 1988  पोलिस अधिनियम या 1930 गेमिंग अधिनियम के तहत यह द्युत का गैर
कानूनी प्रकार नहीं है | इस फैसले के बाद भारत में घुडदौड कि लोकप्रियता पहले के मुकाबले कई गुना बढ़ गई|
आज भारत में पांच ‘भारतीय टर्फ प्राधिकरण’ है जो देश के भिन्न स्थानों पर नौ रेस्कोसो पर घुडदौड का प्रबंध
करते है | हर एक के अपने पैरी म्युचुअल शर्त केंद्र भी है जो काउंटर पर शर्ते लेते है और दूरदर्शन पर घुडदौड का
सीधा प्रसारण दिखाते है |
क्यों कि घुडदौड एक कानूनी और सरकार द्वारा नियंत्रित उद्योग है, कोई ऑनलाइन सट्टेबाज भारत कि दौड़ो पर
शर्त लेने को तैयार नहीं है | परन्तु, जैसे आप इस लेख में पढेंगे, भारतीयों के लिए अंतर्राष्ट्रीय घुडदौड पर
www.bet365 .com जैसी रूपये लेने वाली साइटों पर शर्त लगाने के कई मौके है |

भारत में घुडदौड पर ऑनलाइन शर्त लगाना

भारत में सिर्फ सिक्किम राज्य कानूनी ऑनलाइन अनुज्ञापत्र देता है और वहां भी घुडदौड के लिए आज तक कोई
अनुज्ञापत्र नहीं निकाला गया है | इसलिए अब तक इन्टरनेट द्वारा भारत के भीतर कि घुडदौड पर शर्त लगाना
संभव नहीं है |
टर्फ प्राधिकरणों ने अपने रेसकोर्सो और ऑफकोर्स केन्द्रों पर पैरी म्युचुअल शर्ते देने का हक़ बहुत मुश्किल से प्राप्त
किया है | वे इस हक़ कि रक्षा बड़ी सरगर्मी से कर रहे है | वे सट्टेबाजो को बर्दाश्त कर रहे है | अभी के लिए वे ऐसे
कानूनों से नहीं उलझना चाहते जो शायद इन्टरनेट द्युत पर प्रतिबन्ध नहीं लगाते, पर वर्तमान सरकार के अनुसार
जिनके तहत ऑनलाइन शर्त लगाना गैर कानूनी है |
दूसरी तरफ, शर्त लगाने वालो के हक़ ज्यादा विस्तृत है | घुडदौड पर शर्त लगाना एक हुनर है इसलिए वह द्युत
कानूनों के आधीन नहीं है | वैसे ही, हमारी जानकारी के अनुसार, कोई ऐसे कानून नहीं है जो व्यक्तियों को विदेशी
ऑनलाइन सट्टेबाज के साथ घुडदौड पर शर्त लगाने से रोके | अम्रीका कि केंटकी डार्बी से इंग्लैंड की सैंट लेजर
स्टेक्स तक, और जापान कप भी, भारतीय प्रवासियों के लिए अपने पसंदीदा खेल पर शर्त लगाने के हजारो मौके
है |

घुडदौड पर शर्त प्रक्रिया साइटें

www.bet365.com ऑनलाइन सट्टेबाजो ने भारतीय जुआरियो के लिए अंतर्राष्ट्रीय
घुडदौड पर शर्त लगाना आसान बना दिया है | दोनों भारतीय रुपयों में जमा और प्रत्याहार करते है और भारत
के किसी भी राज्य से आप उनमे ऑनलाइन शर्त खाते खोल सकते है | इस साइटों पर आप “रेसबूक’ या ‘होर्स रेसिंग’
विभाग ढूंढें जहा पुल डाउन मेन्यु में कई शर्त बाजार मिलेंगे | उनमे से ज्यादातर यु.के. या यु.एस.ए. के होंगे, परन्तु
दुसरे क्षेत्रों के घुडदौड के बाजार भी मिलेंगे | इन वेबसाइटो के पृष्ठों पर घोड़ो के पालन और हुनर, रेस कोर्स की स्थिति
घुड़सवार, प्रशिक्षक और अन्य सूचनाये मिलेगी जो एक नौसीखिए जुआरी को सही शर्त लगाने में मदद करे |

www.betfair.com का खेल शर्त प्रक्रिया एक्सचेंज घुडदौड पर शर्तो के विशेष साईट है | यहाँ जुआरी भाव दे भी सकते है
और शर्त लगा भी सकते है | हर कोई सट्टेबाज बन सकता है और दुसरो को भाव दे सकता है, जैसे शेयर भजार में होता
है | इस एक्सचेज में शर्त सृजनता भी दिख पड़ती है, जैसे दो घोड़ो में एक के आगे रहने कि हेड टू हेड शर्ते, ना कि कोनसा
घोडा रेस जीतेगा |

Betfair पर अन्य साइटों से ज्यादा अन्तर्रष्ट्रीय घुडदौड के स्थान मिलेंगे | यु.के. और यु.एस.ए. के अलावा ऑस्ट्रेलिया
फ़्रांस, जर्मनी, आयरलेंड, न्यू जीलेंड, और दक्षिण अफ्रीका के रेस कोर्स भी मिलेंगे वहां के लाइव विडियो फीड के साथ |

घुडदौड पर ऑनलाइन शर्त प्रक्रिया का एक और रोमांचक पहलु है वर्चुअल रेसिंग जो 24 घंटे चलता है | Ladbrokes
और www.williamhill.com जैसी साइटे कंप्यूटर द्वारा उत्पन्न कि घुडदौड दिखाते है जो असली व्यतीत होती है | हर कुछ मिनटों
नई दौड़ शुरू होती है | वर्चुअल रेसिंग पर आप शर्त प्रक्रिया युक्तियाँ और हेन्दिकेप्पिंग हुनर सुधार सकते है |

भारतीयों के लिए सर्वश्रेष्ठ रेसबुक

हमारे अनुसार bet365 भारतीयों को घुडदौड पर ऑनलाइन शर्त लगाने के लिए सर्वश्रेष्ठ वेबसाइट होती अगर वह सम्पूर्ण
लाइव विडियो फीड देती | उनके अधिकाश फीड यु.के. कि दौड़ के होते है | यदि आपको कही और से विडियो फीड मिल
सकती हो या आपको रेस ऑनलाइन नहीं देखनी हो तो यह शर्त प्रक्रिया साईट भारतीयों के लिए सर्वश्रेष्ठ है |

bet365 1974  से कारोबार कर रहा है | उनके 200 देशो में 40 लाख से अधिक ग्राहक और लगभग 1000 कर्मचारी
है | जब आप bet365 पर घुडदौड शर्त लगाते है आप कोई साधारण सट्टेबाज के साथ लेनदेन नहीं कर रहे है, पर यु. के.
सातवीं सबसे बड़ी निजी कंपनी से | यह कोमप्न्य कोट्स परिवार की है, जो इंग्लिश प्रीमियर लीग फुटबाल क्लब स्टोक
सिटी के भी मालिक है | अच्छी खबर यह है कि bet365 अपने मुद्रा विकल्पों में भारतीय रूपये भी देता है और खिलाडियों
को उनके भारतीय पत्ते पर खाता खोलने देता है | हालंकि वे यु.के. में स्थित है आपको ऐसा लगेगा कि आप एक भारतीय
सट्टेबाज के साथ शर्त लगा रहे है |

bet365 पर बहुत सारे प्रमोशन प्राप्त है | जब अमुक रेस्कोर्सो पर आप 4/1 या ऊँचे भावों पर शर्त जीतते है तब आपको एक
मुफ्त शर्त मिल सकती है | अगर आपकी मुफ्त शर्त 4/1 या ऊँचे भावों से जीतती है तो आपको एक और मुफ्त शर्त मिलेगी
और यह सिलसिला जारी रहेगा | यदि आप एक अर्ली लाइन पर शर्त लगाये और बाद में SP ऊँचा निकले तो आपका भुगतान
SP के अनुसार होगा | ये तो गिने चुने प्रमोशन है | आप पहली जमा राशि पर मुफ्त रु 2500 तक नगद पा सकते है और अन्य
प्रमोशन के बारे में जानने के लिए www.bet365.com पर जा सकते है |

अगर आप लाइव स्ट्रीम और ज्यादा घुडदौड क्षेत्र चाहते है तो www.betfair.com स्थित betfair शर्त प्रक्रिया एक्सचेंज
बेहतर चयन होगा | यदि आपको इन दोनों साइटों में से किसी पर भी जमा करने में तकलीफ हो रही हो तो आप हमारे
भारत से skrill से खाता खोलने का पृष्ठ पढ़े |

भारत में लाइव शर्त प्रक्रिया

जैसे कि हम पहले बता चुके है, भारत में घुडदौड शर्त प्रक्रिया हमेशा लाइव और व्यक्तिगत रूप से जानी जाती है |
चाहे शर्त टोट या सट्टेबाज के साथ लगाईं जाये, रेसकोर्स में या ऑफकोर्स, भारत घुडदौड में शर्तो के प्रकार
लगभग मानकित है | आगामी सूची में सब साधारण शर्त प्रकार शामिल है |
विन- यह शर्त एक घोड़े पर लगाईं जाती है जो एक निर्धारित दौड़ जीते | भुगतान तब ही किया जाता है जब
वह घोडा प्रथम आये | टोट पर न्यूनतम शर्त रु 10 है |

प्लेस-

इस शर्त में चुना हुआ घोडा निर्धारित दौड़ में पहले, दुसरे या तीसरे स्थान पर आये जब दौड़ में 8 से 11
घोड़े हो | यदि 8 से कम घोड़े हो तो भुगतान तब ही मिलेगा जब घोडा पहला या दूसरा आये | यदि 11  से अधिक
घोड़े हो तो चौथे स्थान पर भी भुगतान मिलता है |

एस एच पी- 
इस शर्त का पूरा नाम है “सेकेंड होर्स पूल” इस शर्त में चुना हुआ घोडा निर्धारित दौड़ में दुसरे स्थान पर
आना चाहिए | यदि वह घोडा प्रथम या तीसरा या इससे पीछे आया तो शर्त हार जाएगी |

फोरकास्ट-

दो घोड़ो का चयन किया जाता है | एक घोडा नियुक्त किया जाता है पहले स्थान पर आने के लिए और दूसरा
घोडा नियुक्त किया जाता है दुसरे स्थान पर आने के लिए |

क्विनेला-

दो घोड़ो का चयन होता है एक दौड़ के लिए | उनमे से कोई भी घोडा पहले स्थान पर आ सकता है | और कोई
भी घोडा दुसरे स्थान पर |

जोड़ी-

यह एक नई शर्त है जो अब तक सर्वव्यापी नहीं है| यह विन शर्त है जो एक दौड़ में दो घोड़ो के मिश्रण पर लगाईं जाती है |
अगर दोनों में से कोई भी घोडा जीते तो भुगतान होता है | टोट पर न्यूनतम शर्त रु 10 है | भुगतान कि संख्या टिकट पर छपी
रहती है |

बार शर्त-

यह एक नई शर्त है जो पश्चिमी भारत तरफ क्लब ने पहले दाखिल क़ी | इसमें शर्त लगाईं जाती है कि
निर्धारित पसंदीदे घोड़े के सिवाय कोई भी जीत सकता है | दुसरे शब्दों में शर्त यह है कि पसंदीदा घोडा हारेगा |
अगर कोई दूसरा घोडा जीतता है तो भुगतान किया जाता है |

टनाला-

एक ही दौड़ के लिए तीन घोड़ो का मिश्रण चुना जाता है जिसमे घोड़े चुने हुवे कम में पहले, दुसरे और
तीसरे स्थान पर आये | अगर जीतने वाला घोडा सही चुना गया हो और दुसरे और तीसरे घोड़ो के कमों में अदला
बदली हो जाये तो एक आश्वासन भुगतान दिया जाता है |

ट्रेबल-

इस शर्त में तीन लाग घोड़ो के लिए जीतने वाले घोड़ो का चयन करना होता है | अगर एक या दो चयन
सही है तो कोई आश्वासन भुगतान नहीं मिलता |

जैकपोट-

इस शर्त में पाच अलग घोड़ो के लिए जीतने वाले घोड़ो का चयन करना होता है | अगर पहली चार दौड़ो
के जीतने वाले घोड़ो का सही चयन हुआहो और पांचवी दौड़ का चयन गलत हुआ हो तो आश्वासन भुगतान मिलता है |

सुपर जैकपोट-

इस शर्त में छ: अलग दौड़ो के लिए जीतने वाले घोड़ो का चयन करना होता है | अगर पहली पांच
कुदो के जीतने वाले घोड़ो का सही चयन हुआ हो और छठी दौड़ का चयन गलत हुआ हो तो आश्वासन भुगतान मिलता
है |

केंची-

इस शर्त में न्यूनतम तीन और अधिकतम पांच अलग दौड़ो के लिए जीतने वाले घोड़ो का चयन करना
होता है | अगर कम से कम दो घोड़े जीते तो भुगतान मिलता है |

अक्युमलेटर-

यह एक बहु दौड़ शर्त है, जिसमे 2 से 6 अलग अलग दौड़ पर शर्त लगाईं जाती है | हर दौड़ में एक घोड़े
का चयन विन या प्लेस के लिए किया जाता है | यदि पहला चयन कामयाब हुआ तो उसका भुगतान स्वतः: अगले चयन
पर लगा दिया जात है| यह सिलसिला तब तक चलता रहेगा जब तक चयन कामयाब होते रहे और आखरी दौड़ का भुगतान
मिले | अगर कोई भी दौड़ का चयन गलत हुआ तो सम्पूर्ण शर्त विफल हो जाएगी |

पूल्स शर्त प्रक्रिया बनाम स्थायी भाव

टोटलाइसर या टोट पूल शर्त प्रक्रिया का कंप्यूटर के माध्यम रचा एक प्रकार है | इसमें एक दौड़ या दौड़ो के मिश्रण पर
लगी सब शर्तो का जोड़ किया जाता है | फिर उसमे से कर और शुल्क घटा दिए जाते है | बची राशि सब विजेताओं में उनके
भुगतान के बतौर बाँट दी जाती है |
इस दृष्टिकोण के भाव अनिश्चित होते है | शर्त प्रक्रिया समाप्त होने और दौड़ आरम्भ होने के पहले, कितनी शर्ते क्या मूल्यों पर
लगी है इस आधार पर, भाव ऊँचे नीचे होते रहेंगे | किसी भी क्षण, मौजूदा भाव एक बड़े कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखलाये जाते है,
जिसे टोट बोर्ड कहा जाता है |
हर तरफ क्लब रेसकोर्सो पर सेकड़ो स्वचालित टोट शर्त केंद्र खोल देता है कहा पर शर्ते लगाईं जा सकती है | टोट पर
शर्त लगाने के अन्य तरीके भी है | आप टोट कर्मचारियों द्वारा संचालित केन्द्रों पर, या नकद देकर टोट सर्विस आउटलेट
पर या टोट के चलते फिरते ओपरेटर से शर्त लगा सकते है |
कुछ तरफ क्लब आफकोर्स शर्त केंद्र भी चलाते है जहा पर आप टीवी पर दौड़ देखते हुए शर्त लगा सकते है | टोट की
सभी शर्ते, चाहे जिस तरीके से लगायी गयी हो, एक ही पूल में सम्मिलित करी जाती है |
दूसरी तरफ, सट्टेबाज स्थायी भाव देते है | यह एक प्रकार का इकरारनामा होता है जिसमे यदि आपकी शर्त
जीती तो तो आपका भुगतान एक निर्धारित दर से किया जायेगा |
उदहारण तौर, आप एक घोड़े पर ५/1 के भाव से विन शर्त लगाते है | यदि आपका चुना घोडा जीतता है तो हर एक
रूपये के पीछे आपको पांच रु मिलेंगे | इस तरह की शर्त में, बढ़ते घटते भावों के बावजूद, जुआरी आश्वस्त है कि
जिस भाव पर शर्त लगाईं थी, उस भाव पर ही भुगतान मिलेगा |
स्वाभाविक है, दोनों तरह की शर्त प्रक्रियाओ में कुछ जोखिम है | आप टोट में 5/1 का भाव देख कर शर्त लगाते है |
पर जब तक साड़ी शर्ते लगती है भाव गिरकर 4/1 या 3/1 हो सकते है और आपको गिरे हुए भाव पर भुगतान मिलेगा |
इसके विपरीत सट्टेबाज के साथ 5/1 के भाव पर लगाईं शर्त का भुगतान उसी भाव पर होगा, चाहे बाद में भाव बढ़कर
6/1 या 7/1 तक क्यों न पहुँच जाए | इसलिए कुछ सट्टेबाज “शुरूआती भाव” या “SP भाव” देते है | सौदा उस भाव पर
माना जायेगा जिस भाव पर शर्त प्रक्रिया समाप्त होती है | बहुत कर SP भाव टोट के भाव के आसपास होता है |

टर्फ क्लबो और सट्टेबाजो के बीच ग्राहकों की शर्तो के लिए स्पर्धा रहती है | ग्राहकों को अपनी और खींचने के
लिए तोत कई प्रकार के उकसाव देते है | इसमें सर्वप्रथम है “स्थायी टोट भाव” दुसरे शब्दों में, टोट को “कम्प्युटराइजड
सट्टेबाज” समझ कर जुआरी उसके साथ स्थायी भाव पर शर्त लगा सकते है | जीत पर भुगतान निश्चित तौर पर उसी
भाव से मिलेगा जिस पर शर्त लगायी गयी थी और जो टिकट पर छापा गया है |

एक और उकसाव का प्रकार जो क्लब्स देते है “बम्पर इनाम” से जाना जाता है | यह एक इनाम होता है जो जीतने
वाली जैकपोट या सुपर जैकपोट शर्तो पर भुगतान के अतिरिक्त दिया जाता है | उदाहरण के तौर पर, पश्चिम भारत
तरफ क्लब ने भारतीय डार्बी दिवस पर एक मर्सडीज दी थी |

जब आप टोट और सट्टेबाजो के बीच चयन कर रहे हो तो शर्त के कीमत पर ध्यान दे | जैसे उपर कहा गया है,
ज्यादातर टोट शर्ते रु 10 से शुरू होती है | कुछ टोट शर्त रु. 2 में भी लग सकती है | इसके विपरीत सट्टेबाज
अक्सर कम से कम रु 50 की शर्ते लेते है | इसके अलावा, सरकारी कर टोट शर्तो पर सट्टेबाजो की शर्तो
से आधे होते है |
आखिर में यह जुआरी की जिम्मेदारी है की वह भुगतान के नियम जाने | यदि कोई घोडा दौड़ से पहले हट जाये या
हटाया जाये तो नतीजे और भावों पर भरी असर पास सकता है | यह भी जानना जरुरी है की बराबरी के नतीजे
पर क्या प्रणाली अपनाई जाती है , नहीं तो भुगतान के समय कुछ अप्रिय झटका लग सकता है |

यदि आप भारत में घुडदौड के प्रशंशक है तो आपको www.indiarace.com पर अधिक जानकारी
प्राप्त होगी |